Technology

पर्यावरण की जिम्मेदारी – किसकी?

पर्यावरण की जिम्मेदारी, किसकी - सरकार की, उत्पादन क्षेत्र की या हम सब की?

क्या पर्यावरण नियंत्रण केवल उत्पादन क्षेत्र की जिम्मेदारी है? कितनी सरलता से हम सभी उद्योगों को प्रदूषण फ़ैलाने का जिम्मेदार घोषित करके अपनी चिंताओं का परिचय देते हैं?

क्या उपभोगकर्ताओं का कोई कर्त्तव्य नहीं है?

आप जो साबुन, शैम्पू, वाशिंग पाउडर, डिटर्जेंट और हेयर आयल प्रयोग कर रहे हैं, क्या वो पर्यावरण को नुक्सान नहीं पहुंचाते? आप नहाते हैं, आप कपडे धोते हैं और पानी के साथ ये सब भी नाली में बह जाते हैं।

उद्योगों के लिए बी.ओ.डी., सी.ओ.डी एवं और भी अनेक मानक हैं; उद्योग जिनको पूरा कर रहे हैं तथा और भी बेहतर करने के लिए सदैव प्रयत्नशील रहते हैं। कुछ समय दीजिये खुद को, और सोचिये, एक वर्ष मे आप कितना साबुन, शैम्पू, वाशिंग पाउडर, डिटर्जेंट और हेयर आयल प्रयोग करते हैं।

सफाई से रहना जरूरी है।आपने कपडे धोने के लिए वाशिंग मशीन खरीद ली। ठीक किया। अपनी काम वाली बाई (मेड) को वाशिंग मशीन चलाने को बोल दिया, और उसने सोचा, “साहब को बिलकुल साफ़ कपडे पसंद हैं। मेमसाब की साडी भी ठीक से धोनी है, थोड़ा डिटर्जेंट ज्यादा डाल देती हूँ.” सोचिये, क्या कभी हम-आप सोचते हैं की डिटर्जेंट का खर्चा कितना बढ़ता जा रहा है? नहीं ना? हम ये छोटी छोटी बातें नहीं सोचते।

लेकिन अब सोचिये-आपको पैसे नहीं बचाने, कोई बात नहीं।लेकिन पर्यावरण तो बचाना है ना? पांच- सात सौ परिवारों वाली छोटी सी सोसाइटी से जितना प्रदूषण उपरोक्त माध्यमों से फैलता है, उतना तो कोई सौ- दो सौ करोड़ की लागत से लगने वाला बड़ा उद्योग भी नहीं फैलाता।

सरकारें उद्योगों को कंट्रोल करने में व्यस्त हैं।नगर पालिकाएं सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने में सुस्त हैं।कब तक इनको दोष देते रहेंगे? दूसरों को दोष देना बंद कीजिये।अपना कर्त्तव्य पूरा कीजिये.

मैंने व्यक्तिगत रूप से नहाते समय साबुन शैम्पू का प्रयोग घटा कर बहुत काम कर दिया है। कुछ समय अजीब लगा, लेकिन अब बेहतर लगता है। परिवार में भी इसकी शुरुआत कर दी है। मेरा व्यक्तिगत लक्ष्य है- नहाते समय साबुन, शैम्पू, डिटर्जेंट से पूरी मुक्ति। कोशिश है कि बाल छोटे रखूं ताकि हेयर आयल का प्रयोग भी धीरे धीरे बंद कर सकूँ।

आप भी सोचिये। चिंतन कीजिये। इस 2 October को आइये हम सब अपने हिस्से का प्रदूषण कम करने की पहल आरम्भ करें।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close